Friday, July 12, 2024

शोले में डैनी के बदले ऐसे हुई थी अमजद खान की एंट्री, पहली फ़िल्म से ही मचा दिया था तहलका

भारत के ऐतिहासिक फ़िल्म शोले के कई सीन, डायलॉग, गाने और किस्से भारतीय सिनेमा लवर्स को हमेशा ही याद रहेंगे। आज हम उसी शोले फ़िल्म से जुड़ा एक किस्सा आपके साथ शेयर करने जा रहे हैं।

गब्बर के लिए पहली पसंद ‘डैनी’ थे

जब शोले फ़िल्म की कास्टिंग शुरू हुई तो ‘गब्बर सिंह’ के लिए पहले डैनी डेन्जोंगपा को लिया गया था। उन दिनों डैनी विलन के किरदार में खूब जमते थे। जब सलीम-जावेद ने शोले की पटकथा रमेश सिप्पी को सुनाई तो उन्हें लगा कि गब्बर के रोल के लिए एक कठोर विलन चाहिए। फ़िल्म की असली जान विलन में बसती थी। गब्बर की खूँखार हँसी और उसके बोलने का तरीका ही उस किरदार की जान बन रहा था।

Pic source – social media

धर्मात्मा फ़िल्म के लिए डैनी ने छोड़ी शोले

जब फ़िल्म की कास्टिंग शुरू हुई तो संजीव कुमार, धर्मेंद्र, अमिताभ और हेमामालिनी को लिया गया। उन्होंने गब्बर के लिए डैनी को रखा। कहा जाता है कि डैनी ने कुछ स्क्रीन टेस्ट भी दिए थे और तैयारी भी कर रहे थे। उन्हीं दिनों फिरोज़ खान की धर्मात्मा में डैनी को जबरदस्त रोल आफर हुआ। डैनी को लगा कि धर्मात्मा में उन्हें दमदार रोल मिला है और वे कुछ अलग कर सकते हैं। रमेश सिप्पी ने एक इंटरव्यू में बताया कि डैनी ये भी सोचने लगे थे कि शोले में इतने महारथी कलाकार भरे हुए हैं। पता नही उनके रोल का क्या होगा। कहीं वे इन सब के बीच दबकर तो नही रह जाएँगे। इन्ही सब बातों से उन्होंने सिप्पी साहब को फ़िल्म के लिए मना कर दिया। सिप्पी ने कहा कि अगर डैनी भी गब्बर का किरदार करते तो ठीक ही करते।

Pic source – social media

रमेश सिप्पी ने अमजद का एक नाटक देख रखा था

अमजद खान को सलीम खान ने एक स्टेज नाटक में देखा था। वे उनके अभिनय प्रतिभा को पहचान गए थे। वे उन्हें किसी फिल्म में मौका देना चाहते थे। तभी सिप्पी साहब ने शोले की शूटिंग के 1 महीने पहले बताया कि डैनी ने गब्बर का रोल करने से मना कर दिया है। ऐसे में तुरंत फ़िल्म के लेखक सलीम-जावेद ने अमजद खान का नाम आगे किया। उन दिनों रमेश सिप्पी की बहन भी थिएटर प्ले करती थी। एक दिन उन्होंने अपने शो में सिप्पी को आमंत्रित किया। उस नाटक में उनकी बहन के साथ अमजद खान ने एक अफ्रीकी की भूमिका निभाई थी। सिप्पी ने उन्हें देखा और उनके अभिनय से प्रभावित हुए।

Pic source – social media

एक नया लड़का भला एंग्री यंग मैन के सामने खूँखार कैसे लग सकता था

उन्होंने अमजद खान को शोले में लेने का निर्णय तो कर लिया था लेकिन उनका मन गवाही नही दे रहा था कि एक नया कलाकार इतने महारथी के बीच वो गब्बर सिंह वाला डर कैसे पैदा करेगा। आखिर फिल्मों में गुंडों की धुलाई करने वाले अमिताभ और धर्मेंद्र के सामने ये नया लड़का अमजद खान खूँखार कैसे नज़र आएगा। उन्होंने तुरंत अमजद को अपने आफिस बुलाया। उस दिन सिप्पी साहब गद्दे पर लेटे हुए आराम फरमा रहे तब। अमजद खान ने आफिस में एंट्री ली और घूमकर सिप्पी के सामने खड़े हुए। तभी निर्देशक ने तय कर लिया कि अमजद ही गब्बर बन सकते हैं। उन्होंने अमजद को डाकू के कपड़े पहनाए और दाढ़ी बढ़ाने को कहा।

Pic source – social media

रिलीज से पहले अमजद की आवाज़ को डब करने को कहा गया

सिप्पी साहब बताते हैं कि फ़िल्म का फाइनल प्रिंट आने के बाद उन्हें कुछ लोगों ने कहा कि अमजद की पतली आवाज़ ज़रा भी डरावनी नही लग रही है। उनकी आवाज़ को अमरीश पुरी जैसे किसी भारी आवाज़ वाले अभिनेता से डब करा लो। एक पल के लिए सिप्पी को भी लगा कि कहीं लोग अमजद को हँसी मजाक में न लेने लग जाये। उन्होंने डब नही करने का ही निर्णय लिया। उस फिल्म में बोला गब्बर का एक-एक संवाद आइकॉनिक बन गया। चाहे ‘कितने आदमी थे?’ वाला संवाद हो या ‘कौन से चक्की का आटा खाती हो’ वाला संवाद हो। सभी ने दर्शकों के दिलो पर छाप छोड़ दी। अमजद का वह संवाद ‘जब दूर दूर तक बच्चा रोता है तो माँ कहती है चुप हो जा वरना गब्बर आ जायेगा।’ सबसे ज्यादा लोकप्रिय रहा।

फ़िल्म पर्दे पर लगी तो इंटरवेल में भी लोग बाहर नही आते थे

जब फ़िल्म पहले दिन पर्दे पर लगी तो सिप्पी साहब को एक सिनेमा मालिक का कॉल आया। उन्होंने कहा कि इंटरवेल हो चुका है लेकिन एक भी आदमी सिनेमाघर से बाहर नही आ रहा है। सिप्पी साहब को समझ ना आये कि क्या हो रहा है। बाद में उन्हें पता चला कि लोग फ़िल्म के सेकंड हाफ में क्या होगा यह जानने के लिए इतने उतावले हो चुके थे कि कोई समोसा खरीदने बाहर ही नही आया। इतिहास गवाह है कि जिस फ़िल्म ने रोमांच बरकरार रखा, वही सबसे बड़ा हिट साबित हुआ। ‘बाहुबली को कटप्पा ने क्यों मारा’ वाले सस्पेंस ने तो सिनेमा में इतिहास रच दिया था।

Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here