Sunday, July 14, 2024

Shinzo Abe Biography : नही रहे शिंजो आबे ,जाने कौन थे पद्मविभूषण पाने वाले जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे

Japan PM Shinzo Abe Biography in hindi : आज सुबह सुबह जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे पर जानलेवा हमला हुआ और उन्हें गोली मार दी गयी । गोली लगने के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया लेकिन उनकी जान नही बचाई जा सकी । जब उन्हें गोली मारी गयी वे भाषण दे रहे थे ।

आइये आज हम आपको पूर्व पी एम शिंजो आबे के बारे में डिटेल में बताएंगे ,(kaun the Shinzo abe )  जिसमें हम उनके जीवन, राजनीतिक करियर और उनके परिवार समेत अन्य जानकारी देंगे।

शिंजो आबे
Shinzo Abe ( Pic Source – Social media)

राजनीतिक करियर

शिंजो आबे की उम्र अभी 67 वर्ष थी ( Shinzo Abe Age) वे लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी (Libral Democratic Party) के सदस्य थे. पिता की मृत्यु के पश्चात आबे 1993 में पहली बार यामा गुची प्रान्त के पहले जिले के प्रतिनिधि चुने गए। ये उनके राजनीतिक करियर की शुरुआत थी।  शिंजो आबे को साल 2006 में पहली बार जापान के प्रधानमंत्री पद के लिए चुना गया था । लेकिन स्वास्थ्य संबंधी कारणों अब उन्होंने एक साल के भीतर ही इस्तीफा से दिया।  दूसरी बार साल 2012 में शिंजो आबे ने चुनाव लड़ा और प्रधानमंत्री बने । इस बार शिंजो आबे लगातार 7 साल 6 महीने प्रधानमंत्री रहे । 

शिंजो आबे का परिवार

शिंजो आबे का जन्म टोक्यो शहर में हुआ था । शिंजो आबे के पिता का नाम शिंटारो आबे और मां का नाम योको किशी  है । उनका परिवार मूल रूप से यामागुची प्रांत का रहने वाला है. इनके दादा भी जापान के प्रधानमंत्री रहे । जापान की राजनीति में इनके परिवार का काफी नाम है।  उनकी मां योको किशी के पिता नोबुसुके किशी जापान के पूर्व प्रधानमंत्री रह चुके है।  शिंजो के पिता शिंटारो आबे 1982 से 1986 तक जापान के विदेश मंत्री के रूप में कार्यरत रहे है ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ शिंजो आबे बनारस में (pic source – Social media)

शिंजो आबे ने 1987 में शादी की. उनकी पत्नी का नाम एकी आबे ( Akie Abe ) है । दोनों के कोई संतान नही है। साल 1991 में आबे के पिता का निधन हो गया।

सबसे अधिक बार भारत यात्रा करने वाले जापानी प्रधानमंत्री रहे शिंजो आबे

उनके भारत से लगाव का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अपने प्रधानमंत्री कार्यकाल के दौरान शिंजो आबे ने सर्वाधिक भारत की यात्रा की। पहली बार जब वो 2006 -07 में जापान के प्रधानमंत्री बने , यह उनका पहला दौरा था। हालांकि स्वास्थ्य कारणों से उन्होंने इस्तीफा दे दिया था लेकिन 2012 में जब वे दूसरी बार प्रधानमंत्री  बने तो उन्होंने जनवरी 2014, दिसंबर 2015 और सितंबर 2017 में भारत आये। अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने भारत और जापान के संबंधों को मजबूत करने का काम किया।

शिंजो आबे
प्रधानमंत्री मोदी के साथ शिंज़ो आबे वाराणसी (बनारस ) में । photo source – social media

शिंजो आबे को 2021 में पद्म विभूषण से नवाजा गया। जानिए क्यों दिया गया पद्म विभूषण ? ( Shinzo Abe Padm Vibhushan )

शिंजो आबे को जनसेवा के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिए भारत के प्रतिष्ठित दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से भी नवाजा गया था. अब आप सोच रहे होंगे कि वे एक विदेशी थे तो शिंजो आबे को पद्म विभूषण क्यो दिया गया । दरअसल वे जापान और भारत के बीच गहरी दोस्ती के पक्षधर थे। उन्होंने जापान को भारत का आर्थिक सहयोगी बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनकी गहरी दोस्ती थी ।  गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर उन्हें पद्म विभूषण देने का एलान किया गया। उन्हें पब्लिक अफेयर्स कैटेगरी में पद्म विभूषण दिया गया।

अल्सरेटिव कोलाइटिस नाम की बीमारी की वजह से दिया था इस्तीफा

शिंजो आबे ( Shinjo aabe ) ने 28 अगस्त 2020 को जापान के प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। बताया जाता है कि उन्हें अल्सरेटिव कोलाइटिस नाम की बीमारी थी जोकि आंत्र की सूजन से संबंधित है ,  जिसके बाद उन्होंने स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए इस्तीफा दिया।

# Shinzo Abe kaun h
# Shinjo Aabe kaun the # Shinzo Abe ki jeevani hindi me , Shinzo Abe biography hindi me , with modi in banaras varanasi

Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here