Saturday, October 1, 2022

कौन है बसवराज बोम्मई ,कर्नाटक के नये मुख्यमंत्री

- Advertisement -

बसवराज बोम्मई कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री बने है । बताया जा रहा है कि उनके नाम का प्रस्ताव खुद बी एस येदियुरप्पा ने दिया है जिसे शीर्ष नेतृत्व ने मान लिया । बसवराज बोम्मई पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके एस आर बोम्मई के बेटे है। 61 साल के मुख्यमंत्री बसवराज कर्नाटक के गृह मंत्री भी रहे है। बसवराज का पूरा नाम बसवराज सोमप्पा बोम्मई है ( Basavraj Full name is Basavraj Somappa Bommai )

BasavRaj Bommai Biography

बसवराज बोम्मई की उम्र 61 वर्ष है ( Basavraj Bommai Age) इनका जन्म 28 जनवरी 1960 को हुबली में हुआ । बसवराज बोम्मई की शिक्षा की बात करे तो इन्होंने मेकेनिकल में इंजीनियरिंग( BE) की हुई है । बसवराज की पत्नी का नाम चेनम्मा है और ये 2 बच्चों के पिता है।

लिंगायत समुदाय से आते है बसवराज बोम्मई

- Advertisement -

कर्नाटक में लिंगायत समुदाय की जनसंख्या करीब 17 % ( प्रतिशत ) है । बसवराज बोम्मई की जाति लिंगायत है (caste of Basavraj Bommai is Lingayat) . कर्नाटक में 30 से अधिक सीटों पर इस समुदाय का अच्छा खासा प्रभाव है। या यूं कहिए कि इन सीटों पर लिंगायत समुदाय ही जीत सुनिश्चित करता है। ये पहले ही लगभग तय था कि भाजपा कर्नाटक के मुख्यमंत्री के चयन में लिंगायत समुदाय को ही प्रमुखता देगी ।

टाटा ग्रुप में नौकरी कर चुके है बसवराज बोम्मई ( Basavraj Bommai Education )

बसवराज बोम्मई राजनीति में आने से पहले टाटा ग्रुप में नौकरी कर चुके है। बसवराज ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है । उन्होंने भूमाराद्दी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी से 1982 में मेकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री ली है। ( Basavraj Bommai Education ) बसवराज येदियुरप्पा के करीबी माने जाते है।

पिता एस आर बोम्मई भी रह चुके है मुख्यमंत्री

- Advertisement -

बासवराज बोम्मई के पिता का नाम एस आर बोम्मई ( S R Bommai ) है। एस आर बोम्मई 1988 से 1989 तक कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे है। एस आर बोम्मई को अनुच्छेद 356 के दुरुपयोग रोकने से संबंधित केस के लिये भी जाना जाता है । एस आर बोम्मई VS भारत गणराज्य केस में 9 सदस्यो की पीठ ने अनुच्छेद 356 के दुरुपयोग पर रोक लगा दी थी । एस आर बोम्मई के नेतृत्व में सर्वाधिक बहुमत वाली जनता दल सरकार बनाने का रिकॉर्ड भी उनके नाम पर है। 1994 में आये इस फैसले को आज भी याद किया जाता है।

जनता दल से की शुरुआत

बसवराज बोम्मई ने राजनीतिक कैरियर की शुरुआत जनता दल से की । वह दो बार एमएलसी और तीन बार विधायक चुने गए है। इनकी पारिवारिक राजनीति जनता दल से जुड़ी रही है। जनता दल छोडने के बाद बसवराज बोम्मई ने 2008 में भाजपा जॉइन करी । बसवराज जल संसाधन मंत्री रह चुके हैं और कर्नाटक में भाजपा का एक बड़ा चेहरा है ।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular