Sunday, September 25, 2022

महाशिवरात्रि पर करें ये काम, बनेंगे बिगड़े काम

- Advertisement -

आज पूरे देश में महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जा रहा है। सुबह से ही मंदिरों में भक्तों का तांता लग गया है। श्रद्धालुओं में भगवान शिव की भक्ति के प्रति अलग ही उत्साह देखने को मिल रहा है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, आज के दिन भगवान शिव और मां पार्वती जन्म-जन्मांतर के लिए शादी के बंधन में बंध गए थे। यही कारण है कि इस दिन को महाशिवरात्रि के रुप में मनाया जाता है।

- Advertisement -

आज के दिन पूरे विधि-विधान के साथ महादेव की पूजा की जाती है। उन्हें प्रसन्न करने के लिए भक्त बेल पत्र और धतूरा चढ़ाते हैं।

ये भी पढें- सलमान खान और सोनाक्षी सिन्हा ने रचाई शादी? वायरल हुई तस्वीर

- Advertisement -

माना जाता है इस दिन भगवान शंकर भक्तों से प्रसन्न होकर उनकी सभी मुरादें पूरी करते हैं।

अगर आप भी बाबा भोलेनाथ की विशेष कृपा के इच्छुक हैं तो इन उपायों से अपने बिगड़े कामों को पूरा करवा सकते हैं।

शिवलिंग पर जल चढ़ाएं

माना जाता है कि भगवान को प्रसन्न करने के लिए भक्तों को शिवलिंग पर चढ़ाना चाहिए। ऐसा करने से महादेव का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है जिससे आपके बिगड़े काम बन जाते हैं।

शिवलिंग पर दुग्ध युक्त वस्तुएं चढ़ाएं

शास्त्राचार्यों के मुताबिक, भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिए दूध से बनी वस्तुएं चढ़ानी चाहिए। आप दूध या दही भी चढ़ा सकते हैं। माना जाता है कि दूध से शिवलिंग का अभिषेक करने से ईश्वर की कृपा भक्तों पर सदैव बनी रहती है।

भगवान की आरती करें

शास्त्रों के मुताबिक, सभी गंधर्व-देवों में भगवान गणेश का स्थान सबसे ऊंचा है। इसलिए किसी भी गल कार्य की शुरुआत गजानन की पूजा के साथ करनी चाहिए। इसके बाद भोलेनाथ और माता पार्वती की आरती करनी चाहिए। इससे महादेव प्रसन्न होते हैं।

अब हम आपको बताएंगे कि भक्तों को किस विधि से भगवान शंकर की पूजा करनी चाहिए।

  • सर्व प्रथम भक्तों को सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि क्रियाओं से निवृत्त होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करने चाहिए।
  • इसके बाद भगवान के आगे दीप प्रज्जवलित करना चाहिए।
  • दीप प्रज्जवलन के उपरांत भगवान शिव और माता पार्वती समेत अन्य देवी-देवताओं का शुद्ध गंगा जल से अभिषेक करना चाहिए।
  • अब ईश्वर पर पुष्प और रोली-चंदन आदि अर्पित करें।
  • इसके बाद पूरी श्रद्धा के साथ भगवान शिव की आरती करें और रुद्राष्टकम का पाठ करें।
  • पाठ खत्म होने के बाद प्रभु को सात्विक भोजन का भोग लगाएं और सभी में उस प्रसाद का वितरण करें।
  • अंततः भोलेनाथ के आगे सिर झुकाकर उन्हें प्रणाम करें और जीवन में किए गए सभी अपराधों के लिए क्षमा मांगे। ऐसा करने से प्रभु आपसे प्रसन्न हो जाते हैं और आप पर उनकी विशेष कृपा होती है।

ये भी पढ़ें-केआरके का दावा, यूपी में बीजेपी की सरकार बनने पर नहीं लौटूंगा भारत, लोगों ने लिए मजे

 

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular