Sunday, May 26, 2024

3 शर्तें रखकर पुतिन ने यूक्रेन को दिया बातचीत का मौका

- Advertisement -
- Advertisement -

यूक्रेन और रुस के बीच जारी इस जंग को अब 9 दिन बीत चुके हैं। लेकिन रुसी सैनिक अभी भी यूक्रेन के शहरों पर पूरी तरह से कब्ज़ा नहीं कर पाए हैं। वहीं, विश्वस्तर पर भी रुस पर दवाब बढ़ रहा है। पश्चिमी देश रुस पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के जरिये उसकी गतिविधियों पर अंकुश लगाने का प्रयास कर रहे हैं।

इस बीच युद्ध को लेकर रुस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने यूक्रेन को लेकर बड़ा बयान जारी किया है। उन्होंने दावा किया है कि अगर यूक्रेन उनकी तीन शर्तों को मान लेता है तो बातचीत के रास्ते आज भी खुले हैं। पुतिन ने कहा कि, यूक्रेन पर बातचीत तभी संभव है, जब उनकी मांगें मान ली जाएं।

ये भी पढ़ें- My Story : मैंने पति से तंग आकर बनाए नन्दोई से संबंध, मुझे कोई पछतावा नहीं , जानिये एक्सपर्ट की सलाह – Story24

‘यूक्रेन के लिए खुला वार्ता का विकल्प..’

बता दें, पुतिन का यह बयान बीते दिन उनकी जर्मन चांसलर ओलाफ सोल्ज के साथ बातचीत के बाद आया है। इसमें उन्होंने कहा है कि, रूस के लिए यूक्रेनी पक्ष और अन्य सभी के साथ वार्ता का विकल्प खुला है, लेकिन शर्त है कि रूस की सभी मांगों को मान लिया जाए। इसके अलावा रुस के राष्ट्रपति कार्य़ालय क्रेमलिन की तरफ से बताया गया है कि यूक्रेन के शहरों पर बमबारी की खबरें गलत और फर्जी हैं।

क्या हैं रुस की तीन शर्तें?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रुस ने यूक्रेन के सामने तीन शर्तें रखी हैं जिनको यदि यूक्रेन मान लेता है तो युद्ध पर विराम लग सकता है। रुस चाहता है कि यूक्रेन तटस्थ और गैर परमाणु देश हो जाए, उसके द्वारा क्रीमिया को रूस का हिस्सा मानना और पूर्वी यूक्रेन के अलगाववादी क्षेत्रों को संप्रभुता दे दी जाए।

मालूम हो, यूक्रेन और रुस की तरफ से पहले दो दौर की वार्ता हो चुकी है जो कि नाकामयाब रही। हालांकि, अब एक बार फिर रुस ने तीसरे दौर की वार्ता को लेकर उम्मीद जताई है।

बताया जा रहा है कि दोनों देशों के बीच बातचीत का यह दौर सप्ताह के अंत तक शुरु हो सकता है जिसमें इस मसले पर सही फैसला लिया जाएगा।

ये भी पढ़ें- जब 50 की उम्र में पिता बनने पर सारा ने उड़ाया था सैफ का मज़ाक – Story24

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here